/*-------------------------- Narrow black Orange-------------*/ .MBT-readmore{ background:#fff; text-align:right; cursor:pointer; color:#EB7F17; margin:5px 0; border-left:400px dashed #474747; border-right:2px solid #474747; border-top:2px solid #474747; border-bottom:2px solid #474747; padding:2px; -moz-border-radius:6px; -webkit-border-radius:6px; font:bold 11px sans-serif; } .MBT-readmore:hover{ background:#EB7F17; color:#fff; border-left:400px dashed #474747; border-right:2px solid #EB7F17; border-top:2px solid #EB7F17; border-bottom:2px solid #EB7F17; } .MBT-readmore a { color:#fff; text-decoration:none; } .MBT-readmore a:hover { color:#fff; text-decoration:none; }

Monday, 1 July 2013

जी चाहता हे............हितेश राठी

कभी अपनी हंसी पर भी गुस्सा आता है,

कभी सारे जहाँ को हँसाने को जी चाहता है...

कभी छुपा लेते हैं ग़मों को दिल के किसी कोने में,

कभी किसी को सब कुछ सुनाने को जी चाहता है...

कभी रोता नहीं दिल टूट जाने पर भी,

और कभी बस यूँ  ही आंसू बहाने को जी चाहता है...


कभी हंसी सी आ जाती है भीगी यादो में,

तो कभी सब कुछ भुलाने को जी चाहता है...

कभी अच्छा सा लगता है आज़ाद उड़ना कहीं,

और कभी किसी की बाँहों में सिमट जाने को जी चाहता है...

कभी सोचते हैं के हो कुछ नया इस ज़िन्दगी में,

और कभी बस ऐसे ही जिए जाने को जी चाहता है.....

आज का अनमोल वचन

अगर आप यह सोचते हे की ज्ञान पाना महंगा हे, तो अज्ञानी बनकर देखो,

पता लग जायेगा !!!!!....हितेश राठी 

No comments:

Post a Comment

अगर यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो अपने विचार दे और इस ब्लॉग से जुड़े और अपने दोस्तों को भी इस ब्लॉग के बारे में बताये !