/*-------------------------- Narrow black Orange-------------*/ .MBT-readmore{ background:#fff; text-align:right; cursor:pointer; color:#EB7F17; margin:5px 0; border-left:400px dashed #474747; border-right:2px solid #474747; border-top:2px solid #474747; border-bottom:2px solid #474747; padding:2px; -moz-border-radius:6px; -webkit-border-radius:6px; font:bold 11px sans-serif; } .MBT-readmore:hover{ background:#EB7F17; color:#fff; border-left:400px dashed #474747; border-right:2px solid #EB7F17; border-top:2px solid #EB7F17; border-bottom:2px solid #EB7F17; } .MBT-readmore a { color:#fff; text-decoration:none; } .MBT-readmore a:hover { color:#fff; text-decoration:none; }

Saturday, 22 June 2013

हेंकिग का साया (hacking……….)

दोस्तों आजकल नेट पर हेंकिग का साया छाया हुआ हे ! में पहले भी २ पोस्ट हैकिंग पर लिख चूका हु और आज एक और पोस्ट लिख रहा
हु ! उम्मीद करता हु की आपको पसंद आएगी !

आजकल नेट का प्रचलन बहुत बढ़ गया हे जेसे खाना हमारे लिए एक जरूरी हे आज उसी तरहे नेट हमारे लिए जरूरी हो गया हे ! अगर एक दिन भी नेट ना चले तो बहुत बुरा लगता हे !,,,,,,,,,,,अपने आप को दुनिया से कटा हुआ सा महसूस करता हे !


जहां कुछ लोग इसका फायदा उठाते हे व्ही कुछ लोग इसका गलत इस्तेमाल भी करते हे !

आये एक नजर डाले इस से होने वाले नुकशान से और इस से केसे बचा जा सकता हे !

पिछले वर्ष खबर थी की विदेशो में बेठे हेकर्स प्रधानमंत्री कार्यालय तक पहुच गये थे और पीएमओ के महत्वपूर्ण लोगो के खातो से छेडछाड की ! ऐसा ही वाकये सुनने में आया पिछले साल जब विदेश मंत्रालय में घुसपेट की थी और अनेक दूतावासो के कंपूटर तंत्र को भेदने में सफल रहे थे !
साइबर आतंकवाद यानि हेंकिग ! किसी व्यक्ति कंपनी या सुरक्षा एजंसी के गोपनीय दस्तावेज चुराने या उसकी उसकी सुरक्षा में सेंधमारी करनी हो ,हेकर्स अपना काम चुटकियो में कर डालते हे !

बात से में भी सहमत छोटी छोटी बातों का दयां रखकर आप इन परेशानियों से बच सकते है जो बाते ध्यान देने वाली है में आपको बता देता हू

१. हमेशा अपना ईमेल का पासवर्ड २ या ३ महीनो में बदलते रहे
२ अजनबी लोगो को भूल से भी पासवर्ड न दे
३ यदि कोई अनजान ईमेल आये तो dhairya  रखे उसे खोले नहीं और खोले भी तो अनावश्यक रूप से कही भी क्लिक न करे ज्यादातर ईमेल में लिंक होती जो आप को virus की साईट पर ले जाती है
४.यदि आप kahi भी जा रहे तो अपने pc या लेपटोप को lock करके ही जाये नहीं तो किसी और के द्वारा आप का अकाउंट use करने का रिस्क रहता है
५ साईट पर बहुत से add आते है उन्हें इग्नोर करे और क्लिक न करे
६ कुछ साईट पर smile icons होते है आपको आकर्षित करते किन्तु ये भी virus और spyware के लिए जिम्मेदार हो सकते है
७ अंतिम और जरुरी बात हमेशा एक अच्छा एंटीवायरस कंप्यूटर में इंस्टाल रखे जो आपको पूर्ण सुरक्षा देगा .
हा में virus और spyware में अंतर बताना भूल ही गया

virus =
एक टूल जो अपनी कॉपी बनाने में खुद सक्षम है और कंप्यूटर के प्रोग्राम्स और फाइल को संक्रमित कर उन्हें आसानी से हानि पहुचा सकता है

spyware =
ये एक छोटा सा टूल होता है जो user की सारी जानकारी अपने बनाने वाल्व को भेज देता है


सुरक्षा एजंसिय ही नही बड़ी कंपनिया भी इस बात के लिए आश्वस्त रहना चाहती हे की कही उनके साइबर तन्त्र में कहीचूक तो नही !इसी को सुनिसिचत करने के लिए वे भी इस तरहे के विशेस्ग्ये की भारती करती हे ! जो हेकिंग और कंपूटर की दुनिया के बादशाह होते हे !

इन गडबडियो को रोकना को रोकना इन्ही प्रोफेसनलस का काम होता हे ! वाईफाई के माध्यम से इंटरनेट के उपयोग ने हेकिग को और भी आसान बना दिया हे !
अहमदाबाद में हुए धमाको से पांच मिनट पूर्व इंडियन मुजहिदीन संगठन ने टीवी चेनलो को कथित रूप से एक ई मेल भेजा था जिसका स्रोत एसटीएस ने एथिकल हेकर्स की मदद से तुरंत पता लगा लिया था !इस के बाद नवी मुंबई के फ्लेट में छापा मरकर वहा रह रहे अमरीकी नागरिक हेव्ड्स को गिरफ्तार किया गया ! जब हेव्ड्स से पूछताछ की गयी तो उन्होंने चोकाने वाली जानकारी दी !उन्होंने बताया की वे अपने लेफ्टोप पर वाई फाई के माध्यम से इंटरनेट का इस्तेमाल करते हे और इन दिनों उनके बिल जायदा आ रहे हे ! इसका अर्थ यह हे की इस नेटवर्क को हेंक कर आतंकवादियों ने अपने मंसूबो को अंजाम दिया था ! 

सावधानिया


नेट सर्फिग के दोरान अक्सर आपका सामना अवांछित आफर्स से हो जाता हे ! इतना ही नही चेटीग के दोरान भी चीटिंग करने वाले फालतू मेल भी आते रहते हे ! लेकिन सावधान रहने की जरूरत हे ,नही तो दोस्ती करने ,कंपूटर को सुरक्षा प्रदान करने या लुभावने आफर के साथ वाइरस भी आ धमकते हे ! इस तरहे के मेल से आये वाइरस आपके कंपूटर का काम तमाम कर सकता हे ! इसलिए यह बेहद जरूरी हे की आप नेट सर्फिग के दोरान कुछ बातो का ध्यान रखे !...


नेट इस्तेमाल के दोरान अगर कोई फालतू की चीजे मेल करे ,तो खोलने या जवाब देने से परहेज करने के आलावा ऐसे मेल या एप्लीकेशन को आप ब्लाक भी कर सकते हे ! अनजाने ई मेल के साथ आये अटेचमेंट के रूप में आये सब से जायदा वाइरस आने खतरा रहता हे !

नेट सर्फिग के दोरान सुरक्षित रहने का एक जरूरी मन्त्र यह हे ! की अपने पुर नाम ,सही पते ,फोन नम्बर ,और बेंक खाते से संबंधी सुचना नए और अनजान मित्र से शेयर ना करे !अपने फोटो ग्राफ को भी सिमित दायरे में इस्तेमाल की छुट दे ! नेट पर बने किसी भी मित्र से पहली मुलाकात अकेले न करे ! इसमें कोई खतरा हो सकता हे !
सावधानिया


इन दिनों बहुत सी साईटस आपसे पुरस्कार ,सर्वेछण ,रजिस्ट्रेसन के बहाने निजी सुचनाये और ई मेल पासवर्ड मागती हे ,इनसे सावधान रहे ! दरअसल इसमें बहुत सी ऐसीहे जो ई मेल डाटा एकत्रत कर विज्ञापन दाताओ को बेच देती हे !आन लाइन शापिग के कारोबार से जुडी साइट्स भी ऐसा करती हे ! इनसे सावधन रहने में ही भलाई हे


एंटीवाइरस का इस्तेमाल करे ओए उसे लगातार अपडेट करते रहे !

थर्ड पार्टी को कुकीज डालने पर रोक लगाये !

अपने कंपूटर का महत्वपूर्ण डाटा अलग डिस्क या सीडी में सेव रखे !

जब इस्तेमाल न कर रहे हो तो इंटरनेट कनेक्शन डिस्कनेक्ट करना न भूले !

किसी साइबर केफी में जाये तो अपनी टेम्परेरी इंटरनेट फाइल उडाना न भूले !

किसी फाइल को डाऊनलोड करने से पहले अपने अपडेटड एंटी वाइरस की कसोटी पर परख ले ! 


केसे करते हे हेक

वेबसाईटो को हेक करने के लिए कई तरहे के तरीके अपनाते हे !

वो ऐसे सॉफ्टवेर का इस्तेमाल करते हे जो मोडम का प्रयोग कर हजारों फोन नम्बर डायल कर के कम्पुटर से जुड़े किसी एनी मोडम को धुन्दता हे !इसके आलावा आपके कम्पूटर की प्रोग्रामिग मशीन लेग्वेज में लिखी होती हे जिसको कम्पुटर समझता हे और जिसके आधार पर आपका बनाया गया प्रोग्राम काम करता हे हेकर इसी प्रोग्राम के बिच में डी गयी कंडीशनल स्टेटमेट मसलन जंप ,इफ जेसे स्टेटमेट को विभिन् कंडीशनो के दवारा संतुस्ट कराकर हेकिग करते हे वह इन स्टेटमेट को किसी सॉफ्टवेर के आधार पर पता करते हे ! साथ ही हेकर ओपरेटिग सिस्टम में कोण सी खामी हे जिसके लिए पेच इंस्टाल नही किया गया हे को जानने के बाद हेकर उसे हेक करते हे ! 

आज का अनमोल वचन
नास्तिक वह नहीं जो भगवान् पर विश्वास नहीं करता बल्कि नास्तिक वह हे जो खुद पर विश्वास नहीं करता !


1 comment:

  1. Been using AVG protection for a couple of years, I'd recommend this product to everyone.

    ReplyDelete

अगर यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो अपने विचार दे और इस ब्लॉग से जुड़े और अपने दोस्तों को भी इस ब्लॉग के बारे में बताये !