/*-------------------------- Narrow black Orange-------------*/ .MBT-readmore{ background:#fff; text-align:right; cursor:pointer; color:#EB7F17; margin:5px 0; border-left:400px dashed #474747; border-right:2px solid #474747; border-top:2px solid #474747; border-bottom:2px solid #474747; padding:2px; -moz-border-radius:6px; -webkit-border-radius:6px; font:bold 11px sans-serif; } .MBT-readmore:hover{ background:#EB7F17; color:#fff; border-left:400px dashed #474747; border-right:2px solid #EB7F17; border-top:2px solid #EB7F17; border-bottom:2px solid #EB7F17; } .MBT-readmore a { color:#fff; text-decoration:none; } .MBT-readmore a:hover { color:#fff; text-decoration:none; }

Sunday, 12 May 2013

आप सभी को मदरस डे की हार्दिक बधाई


ऊपर जिसका अंत नहीं उसे भगवान कहते हे !
और सरे जंहा में जिसका अंत नहीं उसे माँ कहते हे !!
आप सभी जानते हे की आज हम जो भी हे वो माँ की बदोलत हे ! उसने हमें चलना सिखाया, खाना सिखाया, पीना सिखाया, दोड़ना सिखाया और जो कुछ भी आज हम सिख रहे हे वो उनके आशीर्वाद का ही फल हे ! माँ कहने में एक छोटा शब्द हे लेकिन इसकी महिमा अपरम्पार हे ! हम मुसीबत में होते हे तो माँ हमें सहारा देती हे ! हमारे हर सुख - दुःख में हमारा साथ देती हे !
माँ की महिमा
१. राम भगवान को जन्म देने वाली ही कोसल्या एक माँ थी !
२. बचपन में गोद देने वाली माँ को कभी दगा मत देना !
3. चाये लाखो कमाते हो, लेकिन माँ बाप खुस न रहे, तो लाख नहीं सब खाक हे, यह बात कभी भी भूलना नही !
४. माँ बाप की आँखों में सिर्फ २ ही बार आंसू आते हे, लड़की घर चोदे तब......लड़का मुह मोड तब !
५. जिस दिन तुम्हारे कारण माँ बाप की आँखों में आंसू आ गए उस दिन तुम्हारा सारा धर्म कर्म मिटटी में मिल जायेगा !
6. जब छोटा था तब माँ की श्य्या गीली करता था, अब बड़ा हुआ तो माँ की आँखे गीली करता हे !
७. माँ बाप को विरदाश्रम में रहने वाले तनिक सोचो भी उसने तो तुम्हे कभी अनाथआश्रम में नहीं रखा !
8. बचपन में तुझे अंगुली पकड़ कर स्कूल ले जाते थे, बुडापे में तू उन्हें अंगुली पकड़ कर मंदिर जरुर ले जाना शयद तेरा थोडा सा फ़र्ज़ पूरा हो जाये !
9. जिस बेटे को माँ बाप ने बोलना सिखाया वही बीटा बड़ा होकर माँ बाप को चुप रहना सीखता हे !
१०. पेट में 5 बेटे जिसे भारी नहीं लगे, वह माँ, बेटो के 5 घरो में भरी लग रही हे, बीते ज़माने का यह श्रवण का देस .....कोण मानेगा ?
केसा कलयुग आ गया हे जिस माँ ने हमें  जिंदगी की सारी खुसी दी उन्हें हम चन्द खुसिया भी ना दे सके तो राम और krishan तो दूर की बात तुम रावन के लायक भी नहीं हो क्योकि रावन ने भी कभी अपनी माँ का अपमान नहीं किया था ! में तो हमेसा से यही मानता  हु की आज जिंदगी में सफल होऊ या नहीं लेकिन माँ के आशीर्वाद के सहारे  में हमेसा सफल हु ! मेरा सब कुछ मेरी माँ हे !
अगर मेरा यह लेख आपको पसंद आए तो अपने विचार दे और इसे शेयर करे ताकि इस मदरस डे पर सब लोग माँ की महिमा को पहचान सके !




2 comments:

  1. बहुत बढ़िया लिखा है आपने ,बधाई ,ज़रा ४ लाइन के भाषा पर ध्यान दें
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post हे ! भारत के मातायों
    latest postअनुभूति : क्षणिकाएं

    ReplyDelete

अगर यह पोस्ट आपको पसंद आई हो तो अपने विचार दे और इस ब्लॉग से जुड़े और अपने दोस्तों को भी इस ब्लॉग के बारे में बताये !